शराब के अधिक सेवन से जा सकती है याददाश्त की क्षमता

शराब एक ऐसा मादक पदार्थ है जो नशे की अन्य चीजों से ज्यादा गहरा प्रभाव शरीर पर डालता है शराब का सेवन करने से मानसिक संतुलन बिगड़ जाता है क्योंकि इसके सेवन से शरीर की नसे शिथिल पड़ जाती हैं जिस वजह से शरीर सही रूप से काम नहीं करते हैं और शरीर नशे में रहता है लेकिन आज हम आपको शराब के सेवन से याददाश्त की क्षमता जाने की बात के बारे में बतलाते हैं शराब एक ऐसा मादक पदार्थ है जिस में अल्कोहल बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है

यह अल्कोहल शरीर पर बहुत ही ज्यादा घातक प्रभाव डालता है और इस प्रभाव से हमारा शरीर नशे में रहता है शराब में पाए जाने वाले अलकोहल से हमारे शरीर की मस्तिष्क में पाए जाने वाले तंत्रिका तंत्र पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है जिसके कारण हमारे सोचने समझने की शक्ति बहुत ही कम हो जाती है क्योंकि यह तंत्रिका तंत्र हमारे मस्तिष्क का प्रमुख हिस्सा है जिससे हमारे शरीर के सभी कार्य संचालित होते रहती है जब हम शराब का सेवन करते हैं

तो शराब में पाए जाने वाले अल्कोहल हमारे तंत्रिका तंत्र को सही रूप से कार्य करने नहीं देती है और सोचने समझने की शक्ति को धीरे धीरे कम करती है क्योंकि तंत्रिका तंत्र से ही सोचने समझने की शक्ति शरीर पर रहती है और इस वजह से धीरे-धीरे शराब का सेवन रोज करने से हमारी याददाश्त की क्षमता भी धीरे-धीरे कम होती जाती है और शराब में पाए जाने वाले इस अल्कोहल से हमारे शरीर की लिवर और किडनी को बहुत ही ज्यादा प्रभाव पड़ता है इस कारण से शराब के सेवन करने से हमारे शरीर की अंदर की याददाश्त क्षमता कम होती जाती है और शरीर को भी बहुत काफी नुकसान पहुंचता है

Add Comment